Recipes, Guest posting & Reviews

राजस्थानी घेवर – Rajasthani Ghevar

0 562
घेवर के एक राजस्थानी मिठाई है, जो सावन के महीने में खूब शौक से खाई जाती है। यह एक पारंपरिक मिठाई है, जो त्यौहार या किसी खास अवसर पर बनाई जाती है। घेवर अपने स्वाद के कारण बच्चों और बड़ों के बीच बेहद लोकप्रिय है। सादे घेवर (बिना रबड़ी की टॉपिंग के) फ्रिज में रखकर एक सप्ताह तक उपयोग में लाए जा सकते हैं, लेकिन रबड़ी की टॉपंग लगाने के बाद इन्हें दो दिनों से अध‍िक नहीं रखना चाहिए, अन्यथा ये खराब हो जाते हैं और उनका स्वाद बिगड़ जाता है। तो आइए जानते हैं घेवर रेसिपी_Ghevar Recipe के बारे में:

( English Recipes Recipes in Roman EnglishUrdu Recipe )

राजस्थानी घेवर बनाने की विध‍ि - Rajasthani Ghevar Hindi Recipe

आवश्यक सामग्री (Ingredients):

मैदा_Flour – 250 ग्राम,
दूध_Milk – 50 ग्राम,
घी_Ghee – 50 ग्राम,
पानी_Water – 800 ग्राम,
दूध_Milk – आवश्यकतानुसार,
बर्फ_Ice – कुछ टुकड़े,
घी/तेल_Ghee/Oil – तलने के लिये।

चाशनी बनाने के लिये:
शक्कर_Sugar – 400 ग्राम,
पानी_Water – 200 ग्राम।
[post_ads]
घेवर बनाने की विधि‍:
राजस्थानी घेवर बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में घी लेकर उसके बर्फ के कुछ टुकड़ें डालें और उसे हाथ से फेंटें। जब घी क्रीम जैसी दिखने लगे, तो बर्फ निकाल दें और घी को एकबार पुन: फेंट लें। जब घी क्रीम जैसा लगने लगे, उसमें आधा मैदा डालें और और फिर से फेंटें।

जब मैदा पूरी तरह से घुल जाए, तो बचा हुआ मैदा भी उसमें मिला लें और दूध और पानी मिला कर अच्छी तरह से फेंटें। ध्यान रहे मिश्रण में गुठली नहीं रहनी चाहिए और घोल एकसार होना चाहिए। साथ ही वह इतना पहता होना चाहिए कि चम्मच में लेकर गिराने से पतली धार बनकर गिरना चाहिए।

घोल तैयार होने पर एक पतला लेकिन मोटे तले का गहरा भगोना लें और उसमें लगभग आधा भगोना घी भरकर गर्म करें। घी गर्म होने पर बड़े चम्मच में मैदे का घोल लेकर भगोने में गोलाई से गिराएं। घोल इतना गिराएं कि भगोने में गोलाई में एक परत जैसी बन जाए।

मैदे का यह मिश्रण घी के ऊपर तैरने लगेगा। अगर मैदा बीच में जमा हो रहा हो, तो उसे चाकू या किसी अन्य नुकीली चीज से किनारे की ओर कर दें और मिश्रण के बीच में एक बड़ा सा छेद कर दें। 

लगभग 2 मिनट बाद फिर से मैदे का घाेल गोलाई से भगाेने में डालें और एक के ऊपर एक करके दो या तीन (जितनी मोटाई आप चाहें) बना लें। जब घेवर की पर्त भगोने में मनचाहे साइज की बन जाए, तो उसपर मैदे का घोल न डालें और उसे सुनहरा होने तक सेंक लें। सुनहरा होने पर घेवर के बने छेद में चाकू या सींक डाल कर निकला लें और उसे किसी बर्तन के ऊपर लटका कर रख दें, जिससे उसका अतिरिक्त घी निचुड कर निकल जाए।
सारे घेवर सिंक जाने के बाद चाशनी की तैयारी करें। इसके लिए पानी में शक्कर मिलाकर उसे पका कर दो तार की चाशनी बना लें। चाशनी बन जाने पर सिंके हुए घेवर किसी चौड़े बर्तन में रखें और ऊपर से चाशनी डाल दें। 15 मिनट तक चाशनी में भीगने के बाद घेवर को चाशनी से निकाल लें और उसे किसी स्टील की रॉड या कलछुल में पहना कर किसी बर्तन के ऊपर रख दें, जिससे उसमें लगी हुई अतिरिक्त चाशनी निकल जाए।
अब आपके घेवर तैयार हैं। बस इनके ऊपर रबड़ी (बनाने की विध‍ि यहां देखें) की एक पर्त लगाएं और ऊपर से कटे हुए बादाम, पिस्ता छिड़क कर सर्व करें।
 ( राजस्थान की अन्य रेसिपी के लिये यहां क्लिक करें )


-X-X-X-X-X-
रेसिपी अपडेट के लिए हमारे गूगल प्लस अथवा फेसबुक पेज को लाइक करें अथवा Play Store से Laziz Khana App डाउनलोड करें। ‘रीडर्स रेसिपीज़‘ कॉलम में अपनी रेसिपी छपवाने के लिए इस आईडी पर मेल करें-

keywords: ghevar sweet recipe in hindi, rajasthani ghevar recipe in hindi, hot rajasthani ghevar recipe in hindi, rajasthani ghevar recipe in hindi, how to make ghevar sweet in hindi, how to make indian sweet ghevar in hindi, how to make rajasthani ghevar in hindi, rajasthani sweets in hindi, rajasthani sweets ghevar in hindi, raksha bandhan special sweets recipes in hindi, indian traditional sweets recipes in hindi, raksha bandhan recipe in hindi, घेवर बनाने कि विधि, घेवर बनाइये, घेवर विधि